Menu
Your Cart

Acharya Vedant Teerth

Acharya Vedant Teerth

Acharya Vedant Teerth

Atharvved Vol-1
-20 %
Brand: Manoj Publications Model: KAB0881
अर्थववेद (भाग - १ )अर्थववेद को वैदिक साहित्य में 'ब्रह्मवेद ', भैषज्यवेद ' और 'अथर्वगिरस ' नाम से भी पुकारा जाता है l अधर्वा और अंगिरस नामक ऋषि इस वेद की ऋचाऔ के द्रष्टा है l अथर्वा ऋषि ने जिन ऋचाओं का साक्षात्कार किया, वे अध्यात्मपरक, सुखकारक, आत्मिक उत्थान करने वाली तथा जीवन को मंगल से परिपूर्ण..
₹160.00 ₹200.00
Atharvved Vol-2
-20 %
Brand: Manoj Publications Model: KAB0882
अर्थववेद (भाग-२)अर्थववेद को वैदिक साहित्य में 'ब्रह्मवेद ', भैषज्यवेद ' और 'अथर्वगिरस ' नाम से भी पुकारा जाता है l अधर्वा और अंगिरस नामक ऋषि इस वेद की ऋचाऔ के द्रष्टा है l अथर्वा ऋषि ने जिन ऋचाओं का साक्षात्कार किया, वे अध्यात्मपरक, सुखकारक, आत्मिक उत्थान करने वाली तथा जीवन को मंगल से परिपूर..
₹160.00 ₹200.00
Rigved Vol-1
-20 %
Brand: Manoj Publications Model: KAB0883
ऋग्वेद (भाग- १)'ऋक' पद ऋच धातु से बना है l इसका अर्थ है - स्तुति करना l ऋग्वेद में स्तुति की प्रधानता है l अग्नि, इन्द्र, सूर्य, वायु, वरुण आदि देवताओं और ज्ञान की स्तुति ही इस सर्वाधिक प्राचीन वेद का लक्ष्य है l ऋग्वेद में 'सोमरस' के गुणों का व्यापक रूप से वर्णन किया गया है l यह सोम देवताओं को पुष्..
₹160.00 ₹200.00
Rigved Vol-2
-20 %
Brand: Manoj Publications Model: KAB0884
ऋग्वेद (भाग- 2)'ऋक' पद ऋच धातु से बना है l इसका अर्थ है - स्तुति करना l ऋग्वेद में स्तुति की प्रधानता है l अग्नि, इन्द्र, सूर्य, वायु, वरुण आदि देवताओं और ज्ञान की स्तुति ही इस सर्वाधिक प्राचीन वेद का लक्ष्य है l ऋग्वेद में 'सोमरस' के गुणों का व्यापक रूप से वर्णन किया गया है l यह सोम देवताओं को पुष्..
₹160.00 ₹200.00
Rigved Vol-3
-20 %
Brand: Manoj Publications Model: KAB0885
ऋग्वेद (भाग- 3)'ऋक' पद ऋच धातु से बना है l इसका अर्थ है - स्तुति करना l ऋग्वेद में स्तुति की प्रधानता है l अग्नि, इन्द्र, सूर्य, वायु, वरुण आदि देवताओं और ज्ञान की स्तुति ही इस सर्वाधिक प्राचीन वेद का लक्ष्य है l ऋग्वेद में 'सोमरस' के गुणों का व्यापक रूप से वर्णन किया गया है l यह सोम देवताओं को पुष्..
₹160.00 ₹200.00
Rigved Vol-4
-20 %
Brand: Manoj Publications Model: KAB0886
ऋग्वेद (भाग- 4)'ऋक' पद ऋच धातु से बना है l इसका अर्थ है - स्तुति करना l ऋग्वेद में स्तुति की प्रधानता है l अग्नि, इन्द्र, सूर्य, वायु, वरुण आदि देवताओं और ज्ञान की स्तुति ही इस सर्वाधिक प्राचीन वेद का लक्ष्य है l ऋग्वेद में 'सोमरस' के गुणों का व्यापक रूप से वर्णन किया गया है l यह सोम देवताओं को पुष्..
₹160.00 ₹200.00
Samved - Hindi
-20 %
Brand: Manoj Publications Model: KAB0880
सामवेद उपासना का वर्णन है इस वेद में l  'साम' में 'सा' विधा को कहा गया है और 'अम' नाम है कर्म का 'सा' संकेत करता है सर्वशक्तिमान परमात्मा की ओर, जबकि 'अम ' का सकेतार्थ 'जीव' है l साम मंत्रो में गेय पक्ष की प्रधानता है, इसलिए इसके गान से श्रद्धा समर्पण की धारा उपासक के ह्रदय में सहज रूप से प्..
₹160.00 ₹200.00
Yajurved - Hindi
-20 %
Brand: Manoj Publications Model: KAB0879
Yajurved - Hindi..
₹160.00 ₹200.00
Showing 1 to 8 of 8 (1 Pages)