Menu
Your Cart

Kaljugi Upnishad

-15 % 2-3 Days

Kaljugi Upnishad

Description

Kaljugi Upnishad

" अगर आज उपनिषद का ऋषि आ जाये तो कैसी उपनिषद लिखेगा ?" " यह कलजुग है, उपनिषद लिखने का युग निकल गया I " " युग कैसे निकल गया, जो विषय सतयुग , त्रेता , द्वापर में थे ही नहीं, जो कलजुग में ही उपजे हैं, उन पर विचार करने के लिए भी तो कोई उपनिषद चाहिए , कोई ऋषि चाहिए I " " जब जरूरत होगी, भगवान उस ऋषि को भेज देंगे I विदुला ने कहा I

 

Specifications

Product Info
Author DAyanand Varma
ISBN 8190117009
Language HINDI
Pages 206
Weight 295
Size 8.5 X 0.5 X 5.5
Product SKU: KAB0494
₹149.00
₹175.00