Menu
Your Cart

Astha Prakashan

Aagam Rahasya Tantrokt Sadhnayen
-15 %
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1397
Aagam Rahasya Tantrokt Sadhnayen..
₹340.00 ₹400.00
Aakashcharini - Hindi
-15 % 2-3 Days
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB2061
प्रस्तुत पुस्तक आकाशचारिणी जो मेरे जीवन का अनुभवपूर्ण व सत्य घटनाओं पर आधारित कथा संग्रह है। प्रस्तुत कथा संग्रह में आप जो कुछ भी पढ़ेंगे, निश्चय ही कुछ प्रसंगों और घटनाओं पर आपको सहसा विश्वास नहीं होगा, यह स्वाभाविक भी है। मनुष्य उन्हीं वस्तुओं पर विश्वास करता है जिस पर वह विश्वास करना चाहता है..
₹234.00 ₹275.00
Janm Janmaantar
-15 % In Stock
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1771
जन्म-जन्मान्तर पुस्तक अपने आप में महत्वपूर्ण है और है मार्मिक प्रसंग जो एक बार स्वयं पर सोचने को विवश करता है। जगत के अनन्त प्रवाह में एक ऐसी युवती की कथा है जो जगत में बार-बार जन्म लेती है अपने अधूरे वचन को पूर्ण करने के लिए। उसका जब भी जन्म होता है वह हर बार छली जाती है। कभी समाज के रूढ़िवादी ..
₹213.00 ₹250.00
Kaal Paatra
-15 % In Stock
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1778
गुरुजी की काफी दिनों से इच्छा रही ज्योतिष पर पुस्तक लिखने की  जो २००८ में कालपात्र नाम से पूर्ण हुआ | उनका कहना था कि ज्योतिष का सम्बन्ध जितना देश काल पात्र से है उतना ही योग और तंत्र साधना से भी है। गुरुजी  का ज्योतिष शास्त्र पर पुस्तक लिखने का उद्देश्य था कि जन सामान्य व ..
₹255.00 ₹300.00
Kaaran Paatra
-15 %
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1779
द सन्‌ १६४८ ई. से १६७८ ई. की काल सीमा के अन्तर्गत योग-तंत्र .. से संबंधित अपनी आध्यात्मिक पिपासा को शान्त करने के उददेश्य से जिन प्रच्छन्‍न और अप्रच्छन्‍न सिद्ध साधकों, महात्माओं और योगियों से मेरा सत्संग लाभ हुआ और सत्संग के क्रम में जो गुह्य ज्ञान उपलब्ध हुआ जो अलौकिक अनुभव हुए और साथ ही जो अवर्णन..
₹213.00 ₹250.00
Kundalini Sadhna Prasang
-15 % In Stock
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1774
कुण्डलिनी साधना प्रसंग में बहुत सारे प्रसंगों का वर्णन एवं अलौकिक चमत्कारपूर्ण घटनाओं का भी उल्लेख है। जिसे पारलौकिकजगत भी कह सकते हैं। विश्व जगत में तीन मुख्य जगत हैं। आत्ममय जगत, मनोमय जगत और पदार्थमय जगत। इन तीनों का अपना-अपना विज्ञान है। आत्ममय  जगत का विज्ञान अध्यात्म है। वहीं मनोमय जग..
₹255.00 ₹300.00
Kundalini Shakti Yog Tantrik Sadhna Prasang
-15 %
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1772
कुण्डलिनी-शक्ति उस आदिशक्ति का व्यष्टि रूप है, जो समष्टि रूप में सम्पूर्ण विश्व-ब्रह्माण्ड में चैतन्य और क्रियाशील है । जहाँ तक कुण्डलिनी-शक्ति की प्रसुप्तावस्था की बात है, तो उसके सम्बन्ध में यह बतला देना आवश्यक है कि मातृगर्भस्थ शिशु में वह जाग्रत्‌ रहती है, लेकिन जैसे ही शिशु भूमिगत होता है, ..
₹553.00 ₹650.00
Maaran Paatra
-15 % In Stock
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1781
पुस्तक का नाम 'मारणपात्र' क्‍यों ? यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है | वास्तव में तंत्र की भाषा में मनुष्य की खोपड़ी को 'महापात्र' कहते हैं |तन्त्र के षट्कर्म साधन में 'मारणप्रयोग' मुख्य है। इसकी तांत्रिक क्रिया में जब महापात्र द्वारा मदिरा का प्रयोग होता है तो उसे “कारणपात्र'कहते हैं और जंब कारणपात्र..
₹425.00 ₹500.00
Maranottar Jiwan ka Rahasya
-15 % In Stock
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1770
जन्म, मृत्यु और पुनर्जन्म जहाँ भारतीय धर्म एवं संस्कृति की मूल भित्ति हैं वहीं अपने आप में अत्यन्त गूढ़ गोपनीय और रहस्यमय हैं। प्रारम्भ से ही इनके तिमिराच्छनन विषयों के प्रति पूर्व और पश्चिम के विद्वानों तत्ववेत्ताओं और परामनोवैज्ञानिको की जिज्ञासा रही है | जिसके फलस्वरूप जन्म, मृत्यु और पुनर्जन्..
₹255.00 ₹300.00
Parlok Ke Khulte Rahasya
-15 % In Stock
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1769
यह जगत स्वयं अपने आप में प्राकृतिक घटना है और हमारा जीवन उस घटना का विस्तार है। उस विस्तार में कभी-कभी ऐसी घटनाएं घटती हैं जो अपने आप में अविश्वसनीय और चमत्कारपूर्ण लगती हैं। जिन पर सहसा विश्वास नहींहोता लेकिन प्राकृतिक नियम के विरूद्ध जगत में कुछ भी असामान्य नहीं होता। जो भी घटनायें अथवा चमत्कार..
₹255.00 ₹300.00
Parlok Vigyan
-15 %
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1775
परलोक का मुख्य माध्यम मृत्यु है। जब तक मृत्यु नहीं हो जाती तब तक परलोक के दर्शन नहीं हो सकते; किन्तु वेद, तन्त्र भली-भाँति यह उद्घोष करते हैं कि विना मृत्यु को प्राप्त हुए भी परलोक तथा परलोक के विज्ञान को जाना जा सकता है। योग-तन्त्र की सभी शाखाओं का दर्शन एक ही मत में समाहित है, वह यह कि मृत्यु क..
₹255.00 ₹300.00
Rahasya
-15 % In Stock
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1773
पं. अरुण कुमार शर्मा के कथा-कहानी लिखने का एकमात्र उद्देश्य रहा है, घटनाओं का आश्रय लेकर योग तंत्र, ज्योतिष, धर्म संस्कृति आदि आध्यात्मिक विषयों को जनसाधारण के सम्मुख प्रस्तुत करना ताकि वे उनसे परिचित हो सके। इस प्रकार शर्माजी ने कथा साहित्य के क्षेत्र में कथा शैली की एक नवीनधारा का सृजन किया है।पिछ..
₹255.00 ₹300.00
ShatKarm Vidhan
-15 % 2-3 Days
Shri Baglamukhi Tantram
-15 % 2-3 Days
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1395
Shri Baglamukhi Tantram..
₹255.00 ₹300.00
Shri Kamakhya Rahasyam
-15 % 2-3 Days
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1394
Shri Kamakhya Rahasyam..
₹306.00 ₹360.00
Shri Pratyangira Sadhna Rahasya
-15 % 2-3 Days
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1396
Shri Pratyangira Sadhna Rahasya..
₹272.00 ₹320.00
Teesra Netra
-15 % In Stock
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1780
'तीसरा नेत्र” का द्वितीय खण्ड आपके समक्ष प्रस्तुत है। इस 'खण्ड' के विषयों को संकलित करने में विशेष रूप से किसी प्रकार की समस्या उपस्थित नहीं हुई। लेकिन संकलन काल में अनेक प्रकार की जिज्ञासाओं का उदय अवश्य हुआ हृदय में। पिताश्री अरुण कुमार जी शर्मा द्वारा उन महत्वपूर्ण जिज्ञासाओं का समाधान अति आ..
₹255.00 ₹300.00
Teesra Netra Part - 1
-15 % In Stock
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB2038
Teesra Netra Part - 1..
₹255.00 ₹300.00
Vah Rahasyamay Sanyasi
-15 % In Stock
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1782
तंत्र के तीन पक्ष हैं आध्यात्मिक पक्ष , दार्शनिक पक्ष और क्रिया पक्ष और ये तीनो पक्ष योग पर आश्रित हैं| योग का आश्रय लेकर प्रथम दोनों पक्ष का गहन अध्ययन और चिन्तन-मनन करने के पश्चात ही क्रिया पक्ष को स्वीकार करना चाहिए। तभी तांत्रिक साधना उपासना आदि में पूर्ण सफलता सम्भव है अन्यथा नहीं।अपने ..
₹213.00 ₹250.00
Yog Tantrik Sadhna Prasang
-15 % In Stock
Publisher: Astha Prakashan Model: KAB1776
 मेरा सौभाग्य है कि पिताश्री की पुस्तकों में दो शब्द लिखने का अवसर मुझे प्राप्त होता है। सबसे सुखद और हर्ष की बात तो यह है कि पिताश्री ने अपनी समस्त पुस्तकों एवं पाण्डुलिपियों के प्रकाशन का उत्तरदायित्व मुझे दे दिया है। इस कार्य में, मैं कितना सफल होऊँगा, इसका निर्णय आप पाठकगण ही करेंगे..
₹213.00 ₹250.00
Showing 1 to 21 of 21 (1 Pages)