Menu
Your Cart

Parashar Hora ( Shatadhyai ) Vol-1 Vol-2

-20 %

Parashar Hora ( Shatadhyai ) Vol-1 Vol-2

Description

इस ग्रन्थ में 

इस ग्रन्थ का मूल उद्देश्य युवा पाठकों को यह बताना है कि होरा शास्त्र का निकास किस प्रकार वेद से हुआ है। होरा का विषय जातक के प्रारब्ध कर्म का पाक समय बताना है जिसकी दो विधा दशा और गोचर हैं। इस काल की गणना को ब्रह्माण्ड के घटी यंत्र - नक्षत्र मंडल और सूर्य , चंद्र का उस मंडल पर परिशभ्रमण दर्शाता है। जिसका विवरण वैदिक संदर्भ सहित दिया है। ग्रह कर्म फल के सूचक हैं जिनकी उपासना परक वैदिक ऋचाओं को प्रतीकात्मक रूप से ग्रहों का गुण, स्वाभाव (कारकत्व) माना है। कर्म-फल-सुखदायक व दुखद घटनाओं को भाव रूपी चित्रपट (माध्यम) से कहा है। भावों को भी प्रतीकात्मक रूप से ब्रह्मसूत्रों से लिया है।

Specifications

Product Info
Author OP Paliwal, Uma Shankar Paliwal
ISBN 9788170822844
Language Hindi
Product SKU: KAB1800
₹680.00
₹850.00